खजूर

खजूर

खजूर- खजूर स्वास्थ्यवर्धक फल है इसका उपयोग खाने के रूप में लगातार या वर्शभर किया जा सकता है । यह अधिक आय देने वाला पौधा है।
उन्नत किस्में -
हलावी, खरदावी, शामरान, बरही, मैडजूल, खुनीजी
► षुश्क जलवायु मंे उगाने वाला प्राचीनतम फलदार वृक्ष है।
► मुख्यता खजूर की खेती ईरान, ईराफ, सउदी अरब, इज्रराईल, मिश्र इत्यादी देषों में की जाती है।
► भारत में खजूर की खेती व्यवसायिक तौर पर गुजरात के कच्द एवं पष्चिमी राजस्थान में की जा रही है। खजूर के फल पौश्टिक तत्वों से भरपूर एवं स्वादिश्ठ होते है ।
► इस फल में विटामिन, कार्बोहाईड्रेट, पोटेषियम, कैल्षियम प्रोटीन आदि प्रचूर मात्रा में पाया जाता है। जो स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होता है । खजूर में कई किसमें होती है जिसमें बरही, खूनेजी, मेडजूल प्रमुख है।
► किसानों की उन्नति एवं प्रदेष की प्रगति के लिए उद्यान विभाग द्वारा रोपण पर 75 प्रतिषत का अनुदान भी दिया जाता है । प्रत्येक कृशक न्यूनतम 1/2 हैक्टेयर क्षैत्र व अधिकतम 4 हैक्टेयर क्षैत्र तक के लिए अनुदायिक दर पर पौधे रोपण सामग्री प्राप्त करने के पात्र है ।
► जिसमें 5 प्रतिषत नर पौधे सम्मिलित होते है ।
खजूर के पौधे 25 फीट गुना 25 फीट के अन्तराल पर लगाया जा सकता है।

► ये पौधे चैथे वर्श में फल देना प्रारम्भ कर देते है।
► इसकी उपज पूर्ण परिपक्वता पर यानी 8 वर्श बाद 1.5 से 2 क्विटंल प्रति पेड़ होती है।
► खजूर के वृक्ष की औसतन आयु 200 वर्श होती है ।
► पौधे रोपड़ के समय 3 फीट गुना 3 फीट के गहरे गडढे़ कर उसमें गोबर की कम्पोस्ट
► खाद एवं निर्जमीकृत मिट्टी मिश्रण से भरकर सिंचाई करा पौधा लगाना चाहिए ।
► दीमक का प्रकोप हो तो दीकम रोधी दवाई डाल देनी चाहिए ।
► तीन माह तक एक दिन के अन्तराल में सिंचाई करनी होती है ।
► समय - समय पर पौधे के चारों ओर निराई - मुड़ाई करते रहना चाहिए ।
► सूखी पत्तियां की छंटाई भी करनी चाहिए ।
► खजूर में प्राकृतिक रुप से परागण की प्रक्रिया कम होती है।
► अतः अच्छा उत्पादन प्राप्त करने हेतू नर परागण को मादा पूश्प पर कृत्रिम तरिके से छिड़काव करना जरुरी होता है ।
► साधारणत: नर पौधों पर पहले पूश्प आते है ।
► जिन्हे काटकर छायादार स्ािान पर सूखा लेते है।
► प्राप्त पाउडर (परागण) मादा पौधों मे ं पूश्प आने पर परागकण को रूई की सहायता से परागण किया जाता है।
► यह किया विषेशज्ञयों की सलाह एवं सहायता से करना ठीक रहता है।
► फलो का आकार अढ़ाने एवं गुणवत्ता सुधारने हेतू फलांे की छटाई की जरुरत रहती है ।
► जब फल छोटे आकार का होता है तब 1/3 भाग के फलांे की छंटाई कर देती चाहिए ।
► परागण प्रक्रिया, प्रमुख कीट एवं व्याधियों पर नियंत्रण, फल गुणवत्ता सुधार फल उत्पादन बढ़ाने एवं किसी भी प्रकार के नुकसान से बचने के लिए विषेशज्ञयों की राय समय- समय पर लेनी चाहिए ।
► फल उत्पादन व आमदनी पौधे के रखरखाव एवं उनको देय पोशक तत्वों पर निर्भर करती है।